xmlns:og='http://ogp.me/ns#' Arthritis - गठिया रोग

Arthritis - गठिया रोग

Arthritis - गठिया रोग

अर्थराइटिस यानी गठिया रोग ज्यादातर अधेड़ उम्र के लोगों को होने लगता है। अमूमन गठिया विटामिन डी की कमी से होता है। इसके कारण मरीज की उंगलियों, घुटने, गर्दन, कोहनी के जोड़ों में दर्द होता है। इसका सबसे अहम उपचार तो यह है कि हमें किसी एक्सपर्ट की राय से फिजियोथैरेपी और एक्सरसाइज करनी चाहिए। हड्डियों में दर्द सताना शुरू हो रहा हो तो जंक फूड को बाय बाय कर दें। पेन किलर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 

Also Read: Diets For Healthy Kidneys

हाल ही में इसके दर्द को कम करने के लिए एक शोध हुआ है। असल में भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ऐसा अति सूक्ष्म कण तैयार किया है जो गठिया के दर्द को कम करेगा। वैज्ञानिकों ने नैनो पार्टिकल्स के विभिन्न फिजियोकेमिकल गुणों की जांच की और फिर विस्तर चूहों में कोलाजेन प्रेरित अर्थराइटिस के खिलाफ गठिया रोधी क्षमता की जांच की गई।  उन्होंने पाया कि जिन ग्लूकोनेट एवं जिंक ग्लूकोनेट युक्त काईटोसन नैनोपार्टिकल्स से अर्थराइटिस की तीव्रता कम हुई।  उम्मीद की जा रही है कि मनुष्य पर भी कारगर होगा। 

Also Read: Diets for Kidney Stones

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की संस्था नैनो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिकों ने काइटोसन के सहयोग से ननोपार्टिकल तैयार किया है और इसे जिंक ग्लूकोनेट के साथ मिलाया है। काइटोसन एक बायोकेमपेटेबल बायोडिग्रेडेबल प्रकृतिक पॉलिसैचेराइड होता है। यह शेल फिश एवं क्रस्टासियन के बारहा कंकाल से प्राप्त होता है।  इसका उपयोग औषधियों में किया जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार जिंक तत्व सामान्य हड्डी होमियोस्टेटिस को बनाए रखने के लिए अहम होता है। 

डॉक्टर की सलाह लें। कोशिश रहे की दिनचर्या में बहुत बदलाव ना आए यानी दर्द के कारण बैठे रहने या सोते रहना जैसी स्थिति न आने पाए। जानकर से सलाह लेकर नियमित व्यायाम करें और मालिश करते रहें। समय समय पर खान-पान को लेकर भी जानकारों से सलाह लेते रहें।  

Also Read: Diet to control Bad Cholesterol


Post a Comment

0 Comments

_M=1CODE.txt Displaying _M=1CODE.txt.