xmlns:og='http://ogp.me/ns#' Bhagwan Ram ke lie Sajii Ayodhya

Bhagwan Ram ke lie Sajii Ayodhya

Bhagwan Ram ke lie Sajii Ayodhya
इमेज  क्रेडिट 

भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या 'दुल्हन' की तरह सज गई है। आज अयोध्या का भूमि पूजन व ऐतिहासिक शिलान्यास कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई हस्तियां शामिल होंगी। प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार पीएम मोदी अयोध्या में 'श्री राम जन्मभूमि मंदिर' के शिलान्यास के मौके पर आयोजित जन समारोह में शामिल होंगे। इस कार्यक्रम से पहले वे हनुमानगढ़ी में पूजा करेंगे। मंदिर निर्माण की आधारशिला रखने के लिए वे एक पट्टिका का अनावरण करेंगे और स्मारक डाक टिकट भी जारी करेंगे। 

अयोध्या जाने वाली अधिकतर सड़कें जहां भगवान राम के प्रस्तत्वित मंदिर और राम लला के बड़े-बड़े पोस्टरों से सजी है, वहीं सुरक्षा के भी बेहद कड़े इंतजाम किए गए हैं। अयोध्या जाने वाले वाहनों की जांच उससे पहले पढ़ने वाले जिले बारांबकी से ही शुरू हो जाती है। रास्ते में चार स्थानों पर सख्त जांच की जा रही है। अयोध्या में प्रवेश करने वालों का पूरा ब्यौरा नोट किया जा रहा है। उन्हीं लोगों को प्रवेश करने दिया जा रहा है, जिन्हें अधिकारिक स्वीकृति मिली हुई है।  

पीएम मोदी आज 11:30 बजे पहुंचेंगे। वे हनुमानगढ़ी का दर्शन, रामलला का दर्शन, एवं पारिजात का पौधारोपण करने के बाद लगभग 12:30 बजे रामलला मंदिर का भूमि पूजन कर पब्लिक फंक्शन में भाग लेंगे। 

सबसे पहले हनुमानगढ़ी के दर्शन 

राम नगरी के प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर को भी सजाया गया है। इसके आसपास की दुकानों को भी गहरे पीले रंग से रंगा गया है। प्रधानमंत्री मोदी आज सबसे पहले हनुमानगढ़ी मंदिर जाएंगे। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम के दर्शन करने से पहले श्रद्धालु को हनुमान जी के दर्शन करने चाहिए। हनुमानगढ़ी उत्तर भारत के सबसे मशहूर हनुमान मंदिरों में से एक है। इस मंदिर में हनुमान जी की माता अंजनी की मूर्ति है, जिनकी गोद में छोटे हनुमान जी बैठे हुए हैं। मंदिर के महंत ने बताया कि लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद जब भगवान राम अयोध्या लौटे तब उन्होंने हनुमान जी को रहने के लिए यह जगह दी थी। 

ऐसे होगा पूजन 

महागणपति-अम्बिका पूजन, सप्तघृत मात्रिका पूजन, वरुण पूजन, षोडश मात्रिका पूजन, आयुष मंत्र जप, नींव में प्रतिष्ठित की जाने वाली नौ प्रस्तर खंड शिलाओं का संस्कार और पूजन, ग्रह शांति, शिलाओं के देवता के निमित्त आहुति दी जाएगी। मुहूर्त का काल दोपहर 12:44:08 बजे से शुरू होकर  12:44:40 के बीच का समय है। अभिजीत मुहूर्त प्राय: प्रतिदिन सुबह  11.45 बजे से 12.45 बजे के बीच होता है। इसका समय  48 मिनट माना गया है। इसी मुहूर्त में भगवान राम का भी जन्म हुआ था।

वैदिक रीति के अनुसार 

वैदिक रीति से संपूर्ण अनुष्ठान में 3-3.5 घंटे  का समय लगता है। सभी कर्मकांड पूर्व तरह से यजमान के द्वारा संपन्न होंगे। जैसा की आप सभी को पता है की मुख्य अतिथि के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंतिम क्षण में स्पर्श कर भूमि पूजन और शिला पूजन की विधि सम्पन करेंगे।

Post a Comment

0 Comments

_M=1CODE.txt Displaying _M=1CODE.txt.